Tuesday, April 16Ujala LIve News
Shadow

चिकित्सा की बेहतरीन तैयारियों और 100 से अधिक जहाजों के साथ आज होगा एयरशो

Ujala Live

चिकित्सा की बेहतरीन तैयारियों और 100 से अधिक जहाजों के साथ होगा एयरशो

 

रिपोर्ट-आलोक मालवीय

गरुड़ कमांडो रखेंगे एअर शो और परेड पर पैनी नजर
बमरौली में होने वाली परेड और पूरे संगम छेत्र पर गरुण कमांडों की टीम पैनी नजर रखेगी।इसके साथ ही गरुण टीम
अभिपास्ट में भी हिस्सा लेंगी।मिग 21 लड़ाकू विमानों का यह अतिंम एअरशो होगा।इस एयरशो के बाद मिग विमानों की सेना से बिदाई हो जाएगी।मिग विमानों का खौफ दुश्मनों को हमेशा रहा है। 1965 के युद्ध से बालाकोट युद्ध और अभिनंन्दन मामले तक शत्रु के दिमाग में इस विमान का डर बैठा है। एयरशो की शुरुआत चेतक हैलीकाप्टर से होगी।

किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए रैपिड एक्शन चिकित्सा टीम की बेहतरीन व्यवस्था की गई है।
जिसमें सेना के डाक्टों की फौज मौजूद होगी।इस एयरशो में C295 जहाज के भाग लेने की भी सम्भावना है।

संगम छेत्र साफ सफाई के लिए 800 सफाई कर्मी किये गए नियुक्त

डॉ आनंद सिंह प्रभारी,सैनिटेशन प्रभारी ने बताया कि पूरे मेला छेत्र को पॉलीथिन मुक्त रखा गया है,साफ सफाई के लिए 800 से अधिक सफाई कर्मी लागये गए है।दर्शकों के लिए दीर्घा में किसी भी तरह की गंदगी न हो इसके लिए दर्शक दीर्घा में एयरशो के दौरान सफाई कर्मी लगे रहेंगे।पूरे इलाके में मूत्रालय और शौचालय की व्यवस्था की गई है।इस एयरशो में सिर्फ संगम छेत्र में 5 लाख लोग दर्शक इस एयरशो को देख सकेंगे।

 

भारतीय वायुसेना के इतिहास में 8 अक्टूबर, 2023 एक महत्वपूर्ण दिन के रूप में दर्ज किया जाएगा। इस ऐतिहासिक दिन पर, वायुसेना प्रमुख नए वायुसेना ध्वज का अनावरण करेंगे।

इतिहास में पीछे जाएं, तो आरआईएएफ ध्वज में ऊपरी बाएं कैंटन में यूनियन जैक और फ्लाई साइड पर आरआईएएफ राउंडेल (लाल, सफेद और नीला) शामिल था। स्वतंत्रता के बाद, निचले दाएं कैंटन में यूनियन जैक को भारतीय ट्राई कलर और आरएएफ राउंडल्स को आईएएफ ट्राई कलर राउंडेल के साथ प्रतिस्थापित करके भारतीय वायु सेना का ध्वज बनाया गया था।

भारतीय वायु सेना के मूल्यों को बेहतर ढंग से प्रकट करने के लिए, अब एक नया आईएएफ ध्वज बनाया गया है। अब एनसाइन के ऊपरी दाएं कोने में फ्लाई साइड की ओर वायु सेना क्रेस्ट को शामिल करने से प्रतिबिंबित होगा।

आईएएफ क्रेस्ट के शीर्ष पर राष्ट्रीय प्रतीक अशोक सिंह और उसके नीचे देवनागरी में “सत्यमेव जयते” शब्द हैं। अशोक सिंह के नीचे एक हिमालयी ईगल है जिसके पंख फैले हुए हैं, जो भारतीय वायुसेना के युद्ध के गुणों को दर्शाता है। हल्के नीले रंग का एक वलय हिमालयी ईगल को घेरे हुए है, जिस पर लिखा है “भारतीय वायु सेना”। भारतीय वायुसेना का आदर्श वाक्य “नभः स्पृशं दीप्तम्” हिमालयी ईगल के नीचे देवनागरी के सुनहरे अक्षरों में अंकित है। आईएएफ का आदर्श वाक्य भगवद गीता के अध्याय 11 के श्लोक 24 से लिया गया है और इसका अर्थ है “वैभव के साथ आकाश को छूना”।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

× हमारे साथ Whatsapp पर जुड़ें