Thursday, May 30Ujala LIve News
Shadow

धर्म/संस्कृति

मां के बिना जीवन नहीं (महंत जगतार मुनी)

मां के बिना जीवन नहीं (महंत जगतार मुनी)

धर्म/संस्कृति
मां के बिना जीवन नहीं (महंत जगतार मुनी) मां के आगे ईश्वर भी नतमस्तक होता है ( ओंकारनाथ त्रिपाठी) ================== मातृ शक्तियों के सम्मान में पुष्प वर्षा करते हुए किया गया पूजन वंदन आरती ================= अंतरराष्ट्रीय मातृ दिवस के अवसर पर श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन के प्रांगण में समाजसेवी एवं जनहित संघर्ष समिति के युवा अध्यक्ष अभिलाष केसरवानी के द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मातृ शक्तियों को सम्मानित करते हुए आरती पूजन वंदन किया गया इस अवसर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जय शिवसेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओंकारनाथ त्रिपाठी एवं श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन के पूज्य महंत जगतार मुनि जी ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी ताकत और शक्ति मां होती जिसके आगे ईश्वर भी नतमस्तक होता है और उसकी गोद में खेलता है और कहा कि मृत्यु के हजारों रास्ते हैं पर जीवन प्राप्त करने का सिर्फ एक ही मार्ग है वो...
सम्पूर्ण परिसर में गूंजा वैदिक मंत्रोच्चार,कुलपति ने आदि शंकराचार्य जी की वृहद् प्रतिमा पर माल्यार्पण कर विधि-विधान से 1236 वीं जयंती मनाई गई

सम्पूर्ण परिसर में गूंजा वैदिक मंत्रोच्चार,कुलपति ने आदि शंकराचार्य जी की वृहद् प्रतिमा पर माल्यार्पण कर विधि-विधान से 1236 वीं जयंती मनाई गई

धर्म/संस्कृति
सम्पूर्ण परिसर में गूंजा वैदिक मंत्रोच्चार,कुलपति ने आदि शंकराचार्य जी की वृहद् प्रतिमा पर माल्यार्पण कर विधि-विधान से 1236 वीं जयंती मनाई गई   शंकराचार्य जी ने मानवता के लिए आध्यात्मिक ज्ञान का मार्ग प्रशस्त किया--- कुलपति प्रो बिहारी लाल शर्मा.. सुशील कुमार मिश्र उजाला शिखर /वाराणसी विश्वविद्यालय में आज आदि शंकराचार्य की 1236 वीं जयंती समारोह मनाया जा रहा है,जिन्होंने मानवता के लिए आध्यात्मिक ज्ञान का मार्ग प्रशस्त किया। भारतीय दर्शन, विशेष रूप से अद्वैत वेदांत में उनके गहन योगदान ने हमारी सांस्कृतिक विरासत पर एक अमिट छाप छोड़ी है।जो कि उन्होंने दुनिया में हिन्दू संस्कृति के पतन के समय इसे पुनर्जीवित किया। विश्व कल्याण,संस्था की समृद्धि एवं हमारी विरासत संस्कृत के संरक्षण- संवर्धन के लिए प्रार्थना-- उक्त विचार सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी के कुलपति प्...
अक्षय पुण्य की प्राप्ति को संगम में लगी पुण्य की डुपकी, श्रद्धालुओं ने किया दान पुण्य 

अक्षय पुण्य की प्राप्ति को संगम में लगी पुण्य की डुपकी, श्रद्धालुओं ने किया दान पुण्य 

धर्म/संस्कृति
अक्षय पुण्य की प्राप्ति को संगम में लगी पुण्य की डुपकी, श्रद्धालुओं ने किया दान पुण्य    प्रयागराज के संगम तट पर अक्षय तृतीया के मौके पर स्नान करने के लिए श्रद्धालु सुबह से पहुंचकर स्नान कर रहे हैं। गंगा यमुना और सरस्वती के त्रिवेणी की धारा में स्नान किया और दान पुन्य कर अक्षय पुण्य की प्राप्ति की । पौराणिक मान्यता है, की संगम में डुबकी लगाने के बाद तट पर स्थित अक्षय वट के नीचे पूजा अर्चना करने से जो पुण्य फल अर्जित होता है जो कभी ख़त्म नहीं होता । श्रद्धालु विष्णु के अवतार वेणी माधव के दर्शन करने के बाद अक्षय वट के नीचे आराधना पूजा कर अपना पुरुषार्थ अच्छा बना रहे हैं | मान्यता यह भी है की स्रष्टि के नष्ट होने के बाद आई प्रलय में भगवान विष्णु बालमुकुन्द का रूप धारण कर बाल रूप में एक पीपल के पत्ते में लेटकर जल में विचरण करते हैं। उस समय यही अक्षय वट उनका अंश बनकर ...
ओंकार सेवा समिति के तत्वावधान में प्रयाग गौरव सम्मान एवं विचार गोष्ठी का हुआ आयोजन 

ओंकार सेवा समिति के तत्वावधान में प्रयाग गौरव सम्मान एवं विचार गोष्ठी का हुआ आयोजन 

धर्म/संस्कृति
ओंकार सेवा समिति के तत्वावधान में प्रयाग गौरव सम्मान एवं विचार गोष्ठी का हुआ आयोजन  ओंकार सेवा समिति के तत्वावधान में हिंदुस्तानी एकेडमी में प्रयाग गौरव सम्मान हेतु विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया तथा विशिष्ठ जानो को प्रयाग गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया l कार्यक्रम का सुभारम्भ दीप प्रज्वलन एवं सरस्वती के प्रतिमा पर माल्यार्पण से हुआ इस अवसर पर दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के राजनीत विभाग के प्रोफेसर अमित कुमार उपाध्याय, ज्योतिषाचार्य अश्विनि कुमार द्विवेदी, डा. बीनू सिंह , दंत चिकित्सक डा. रंजन बाजपेई, उत्तर प्रदेश राज्य ललित कला अकादमी की निदेशक डा. श्रद्धा शुक्ला , डा. वंदना उपाध्याय तथा डा. मनोज कुमार यादव को प्रयाग गौरव सम्मान प्रदान किया गया कार्यक्रम की अध्यक्षता स्वामी हरिचैतन्यब्रह्मचारी ने एव॔ कार्यक्रम के मुख्यअतिथि उत्तर प्रदेश उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष ...
“जैन धर्म के २४वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्मोत्सव धूम धाम से मनाया गया”

“जैन धर्म के २४वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्मोत्सव धूम धाम से मनाया गया”

धर्म/संस्कृति
  "जैन धर्म के २४वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्मोत्सव धूम धाम से मनाया गया"   प्रयागराज । सत्य अहिंसा के प्रेरक जैन धर्म के २४वें तीर्थंकर की २६२३ जन्म जयंती नगर में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया । इस अवसर पर प्रातः प्रभात फेरी एवं 8:30 बजे मंदिर जी के शिखर पर ध्वजारोहण हुआ । विशाल शोभायात्रा प्रातः 10 बजे जीरो रोड स्थित दिगंबर जैन पंचायती मंदिर, प्रयाग के तत्वाधान में शुरू हुई जिसमे अनेक बैंड बाजे, ऐरावत हाथी, झाकियां आदि समलित रहीं । रथ में महावीर की प्रतिमा विराजमान थीं । रथ में मुकुट माला आदि इंद्रों के वेश में केसरिया वस्त्रों में चवर चला रहें थे । सौधर्म इंद्र के वेश में श्री अजय जैन भगवान की प्रतिमा को लिए हुए थे और सारथी के वेश में अमन जैन सुशोभित रहे ।   रथयात्रा में अनेकों श्रद्धालु केसरिया वस्त्र पहने "जियो और जीनों दो" , "अहिंसा परमो धर्म"...
तीन सौ किताबें लिखने वाले अल्लामा ज़ीशान हैदर जव्वादी की बरसी पर पेश कि गई खेराजे अक़िदत

तीन सौ किताबें लिखने वाले अल्लामा ज़ीशान हैदर जव्वादी की बरसी पर पेश कि गई खेराजे अक़िदत

धर्म/संस्कृति
तीन सौ किताबें लिखने वाले अल्लामा ज़ीशान हैदर जव्वादी की बरसी पर पेश कि गई खेराजे अक़िदत प्रयागराज के बड़े और ख्याति प्राप्त अज़ीमुश्शान मज़हबी रहनुमा अल्लामा ज़ीशान हैदर जव्वादी की चौबीसवीं बरसी पर शहर के मुख्तलिफ तन्ज़ीमों व अदारों के साथ ओलमा ने खेराजे अक़िदत पेश कि। मस्जिद क़ाज़ी साहब बख्शी बाज़ार में खानवादा ए अल्लामा जव्वादी की ओर से बरसी की मजलिस में उनके क़ायम किए गए मदरसे जामिया अनवारुल उलूम के उस्ताद छात्र व बड़ी संख्या में ओलमा ने शिरकत कि। हुज्जतुल इस्लाम मौलाना कमाल अहमद खां साहब क़िब्ला ने मजलिस को खेताब करते हुए उनकी ख़िदमात ए ख़ल्क़ व उनके द्वारा लिखी गई तीन सौ किताबों का हवाला देते हुए तफसीली तक़रीर कि।मजलिस का आग़ाज़ मौलाना मोहम्मद ताहिर की तिलावत ए कलाम ए पाक से हुआ।कई शायरों ने ताज़ियती नज़्म भी पेश कि।उम्मुल बनीन सोसायटी के महासचिव सैय्यद मोहम्मद अस्करी के अनुसार ...
मां कल्याणी ने दिए भक्तों को स्कंद माता के रूप में दर्शन

मां कल्याणी ने दिए भक्तों को स्कंद माता के रूप में दर्शन

धर्म/संस्कृति
मां कल्याणी ने दिए भक्तों को स्कंद माता के रूप में दर्शन श्री नव संवत्सर मानव समिति कल्याणी देवी प्रयागराज के द्वारा मां कल्याणी देवी के परिसर में आयोजित 52 वीं संगीतमय श्री राम कथा के पंचम दिवस पर भक्तों को राम कथा का रसपान कराते हुए पूज्य व्यास डॉक्टर अनिरुद्ध जी महाराज ने भरत चरित्र पर दर्शन डालते हुए कहा कि भरत वास्तव में स्वयं में त्यागी है और भरत जी भारत देश के भरत में त्याग की भावना भर देते हैं व्यास जी कथा सुनाते हुए आगे कहते हैं कि भरत जी राम की वनवास प्राप्त राजगद्दी को छोड़कर कहते हैं कि भोर होते ही मैं चला जाऊंगा जहां भगवान राम चले गए हैं और कहते हैं संपत्ति सब रघुपति के आहीं अर्थात सारी संपदा राम की है और यही संपदा ही भगवान राम के दर्शन में बाधक है इसीलिए इसे तत्काल छोड़ देना चाहिए और तब वशिष्ठ मुनि ने राय दिया की तिलक चंदन सब लेते चलो और वहीं राम जी का राजतिलक कर दे...
नव संवत्सर पर उ‌द्घोष-2081 का आयोजन,उजाला लाइव करेगा सीधा प्रसारण

नव संवत्सर पर उ‌द्घोष-2081 का आयोजन,उजाला लाइव करेगा सीधा प्रसारण

धर्म/संस्कृति
नव संवत्सर पर उ‌द्घोष-2081 का आयोजन ,उजाला लाइव करेगा सीधा प्रसारण नव सवंत्सर के आगमन पर 9 अप्रैल को प्रातः पांच बजे से साढे सात बजे तक उ‌द्घोष-2081 का आयोजन हनुमत निकेतन प्रांगण सिविल लाइंस में किया गया है।नव संवत्सर के स्वागत में हो रहे इस विशेष कार्यक्रम का सीधा प्रसारण शहर का प्रतिष्ठित यू ट्यूब चैनल उजाला लाईव करेगा इस सम्पूर्ण कार्यक्रम को दुनियां में कहीं भी लाइव देखा जा सकता है। कार्यकम को ज्योतिष पीठाधीश्वर जगद्‌गुरू शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती वर्चुअली संबोधित करेंगे। अध्यक्षता दंडी स्वामी जीतेन्द्रानंद सरस्वती, महासचिव अखिल भारतीय संत समिति एवं गंगा महासभा करेंगे। इस आशय की जानकारी कार्यकम के आयोजक सृजन जन सेवा समिति प्रयागराज के सचिव डा० बी० बी० अग्रवाल ने दी है। डा० बी० बी० अग्रवाल ने बताया कि नव संवत्सर के अवसर पर आयोजित इस कार्यकम में न्यायमूर्ति मंजू रानी ...
रामानन्द मिशन, श्री तुलसी पीठ सेवा न्यास जानकी कुंड का चला स्वच्छता अभियान

रामानन्द मिशन, श्री तुलसी पीठ सेवा न्यास जानकी कुंड का चला स्वच्छता अभियान

धर्म/संस्कृति
रामानन्द मिशन, श्री तुलसी पीठ सेवा न्यास जानकी कुंड का चला स्वच्छता अभियान चित्रकूट। प्रभु श्रीराम के संघर्ष, साधना एवं संकल्प की साक्षी तथा श्रीसीताराम की बिहार-भूमि को सिंचित करने वाली मंदाकिनी नदी की प्रदूषित स्थिति से जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी श्री रामभद्राचार्य जी महाराज अत्यंत व्यथित हैं। उनका मानना है कि मंदाकिनी नदी अपने पौराणिक महत्व को धारण करते हुए, नारी संकल्प का प्रतीक होते हुए, चित्रकूट धाम की जीवन रेखा भी है। उन्होंने अपने उत्तराधिकारी आचार्य रामचन्द्र दास जी महाराज को निर्देश दिया है कि कम से कम श्री तुलसी पीठ से संलग्न क्षेत्रों में मंदाकिनी की सफाई की जिम्मेदारी उनको उठानी है। गुरु के आदेश को शिरोधार्य रखते हुए आचार्य रामचन्द्र दास जी महाराज के नेतृत्व में शिष्यों तथा परिकरों ने स्वच्छता अभियान चलाया। इन धर्मयोद्धाओं ने ठोस अपशिष्ट को नदी से बाहर निकालने के साथ...
पुनरुत्थान मसीह विश्वास की आधारशिला है – बिशप मोरिस एडगर दान

पुनरुत्थान मसीह विश्वास की आधारशिला है – बिशप मोरिस एडगर दान

धर्म/संस्कृति
पुनरुत्थान मसीह विश्वास की आधारशिला है - बिशप मोरिस एडगर दान धूम-धाम से मनाया गया ईस्टर। क़ब्रिस्तानों में पूर्वजों की क़ब्रों को किया रोशन रिपोर्ट कुलदीप शुक्ला  यीशु मसीह के पुनरुत्थान के अवसर पर आल सेन्ट कैथेड्रल मैं हुई विशेष प्रार्थना सभा में बिशप दान उपस्थित रहे तथा उन्होंने प्रभु भोज भी दिया। इस अवसर पर सभी लोगों को पुनरुत्थान दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए हुई बिशप दान ने बताया कि यीशु मसीह ने अपने जीवन तथा मृत्यु द्वारा परमेश्वर की महिमा की। उनकी पुनरुत्थान से संसार एवं भक्तों को जीवन मिला तथा अनंत जीवन की आशा और विश्वास कलीसिया में स्थापित हुआ। जीवित परमेश्वर हमारे साथ रहते हैं हमारे साथ की यात्रा करते हैं उनका आशीर्वाद और प्रेम हमारे जीवनों एवं समाज को सशक्त बना रहा है। प्रयागराज रविवार को ईस्टर पर्व की शुरुआत भोर में डॉन सर्विस से की गई जिसमें येशु ...
× हमारे साथ Whatsapp पर जुड़ें